Menu

UIT at a glance

     The royal fortified city with a timeless appeal. Lying in the north of the Desert State, the city is dotted with many sand dunes. Bikaner retains the medieval splendor that pervades the city's lifestyle More popularly called the camel country, the city is renowned for the best riding camels in the world. The ship of the desert is an inseparable part of life here. Be it pulling heavy carts, transporting grains or working on wells. Camels are the prime helpers. The well of Bikaner-an important source of water are another attraction of the city. These are built on high plinth with slender minareted towers on each of the Four Corners and can be noticed even from a distance.

 

      Bikaner's history date backs to 1488A.D. when a Rathore Prince. Rao Bikaji- a descendant of the founder of Jodhpur(1459A.D.) Rao Jodhaji, established his kingdom here. Rao Jodhaji had five sons but Rao Jodhaji had five sons but rao Bikaji was the most enterprising of them. Bikaji chose a barren wilderness called "jangladesh" and transformed it to an impressive city, called Bikaji after the Founder's Name. The strategic location of Bikaner on the ancient caravan routes that came from west/Central Asia, made it a Prime trade center in the times of the year.

      Bikaner stands on a slightly raised ground and is circumscribed by a seven km long embattled wall with five gates. The magnificent forts and palaces created with delicacy in reddish-pink, sandstone, bear testimony to its historical and architectural legacy. Undulating lanes, colorful bazaars and bright and cheerful folks make Bikaner an interesting experience.

 

     परिचय:- राजस्थान सरकार द्वारा राज्य के शहरों के सुनियोजित विकास के उद्देश्य से राजस्थान नगर सुधार अधिनियम 1959 के अन्तर्गत राज्य में नगर सुधार न्यासों के गठन के निर्णय के फलस्वरूप दिनांक 16.11.1960 को नगर विकास न्यास, बीकानेर की स्थापना की गई। न्यास की स्थापना के पश्चात् अधिकांश काल में जिला कलक्टर ही अध्यक्ष पद पर आसीन रहे है। केवल छ: जनप्रतिनिधि अध्यक्ष पद पर वर्ष 1963-66, 1969-72, 1978-80, 1981-85, 1991-92 एवं 2002-03 तक आसीन रहे है। वर्तमान मे जिला कलक्टर अध्यक्ष पद पर आसीन है।

न्यासी गण :-   

1. अधीक्षण अभियंता, जोद्यपुर विद्युत वितरण निगम, बीकानेर

2. अधीक्षण अभियंता, जन स्वास्थय अभियांत्रिकी, बीकानेर

3. अधीक्षण अभियंता, सार्वजनिक निर्माण विभाग, बीकानेर

4. वरिष्ठ नगर नियोजक बीकानेर

5. आयुक्त नगर परिषद् बीकानेर

न्यास का गठन:-   

     राज्य सरकार नगर सुधार न्यास अधिनियम 1959 की धारा (8 व 9) के अन्तर्गत राजपत्र में अधिसूचना प्रकाशित कर न्यास का गठन करती है। किसी भी जनप्रतिनिधि अथवा कार्यकारी अधिकारी को न्यास का अध्यक्ष नियुक्त किया जा सकता है। न्यास अध्यक्ष एवं न्यासियों का कार्यकाल सामान्यत: अधिनियम की धारा (11 व 12) के अनुसार तीन वर्ष का होता है और पदावधि (धारा 13) के अनुसार राजपत्र में निर्धारित तिथि से आरम्भ होती है। राज्य सरकार समयावधि से पूर्व भी (धारा 14) के अनुसार न्यास अध्यक्ष व न्यासियों को हटाकर न्यास का पुनर्गठन कर सकती है।

 

: : visits count
Webpage Last Updated on : Wed May 18 13:25:02 IST 2016