Menu

History

नगर का इतिहास

फालना नगर आजादी से पूर्व का बसा हुआ छोटा कस्‍बा था। जिसके नाम पर फालना रेल्‍वे स्‍टेशन बना हुआ है तथा पूर्व मे ग्राम पंचायत खुडाला के नाम से ग्राम पंचायत कार्यरत थी । तत्‍पश्‍चात खुडाला फालना के नागरिको ने एक राय होकर राजस्‍व ग्राम खुडाला काेे सम्मिलित कर नगरपालिका खुडाला फालना का गठन किया गया। वर्ष 1983 से यहा पर चतुर्थ श्रेणी की नगरपालिका कार्य कर रही है।

पालिका नगर की टोपोग्राफी समतल धरातल है तथा यंहा पर वर्ष पर्यन्‍त 230 मिली. से 500 मिली. तक औसतन वर्षा होती है तथा मानसून जुलाई से 15 सितम्‍बर तक प्रभावी रहता है नगर का तापमान अधिकतम 45 डिग्री सेन्‍टीग्रेड व न्‍यूनतम तापमान 2.90 डिग्री सेन्‍टीग्रेड सर्दी के मौसम मे रहता है। नगर के आस पास का क्षेत्र शुष्‍क क्षेत्र है। फालना नगर का भू गर्भीय क्षेत्र हार्ड व सेन्‍टी है तथा जलदाय विभाग द्धारा 35 किलोमीटर दूर स्थित जवाई बांध से पानी की सप्‍लाई 48 घंटे के अन्‍तराल से की जा रही है नगर की वर्तमान मे आबादी 35000 से अधिक है तथा जनसंख्‍या व़द्धि दर औसतन 20 से 30 प्रतिशत है। फालना मे हवाई पटटी हेतु करीब 120 बीघा भूमि आरक्षित की हुई है। शहर मे तीन कच्‍ची बस्तियां स्थित है तथा नगर का विकास सामान्‍य गति से हो रहा है।

पालिका का परिचय

फालना शहर राजस्‍थान राज्‍य के पाली जिला का महत्‍वपूर्ण औघोगिक शहर है फालना शहर एवं राजस्‍व ग्राम-खुडाला को मिलाकर इस पालिका का गठन दिनांक 01.11.1983 को राज्‍य सरकार के आदेश द्धारा हुआ था। जिससे इसका नाम ''नगरपालिका खुडाला फालना स्‍टें.'' रखा गया। जनगणना 2011 के अनुसार नगर की आबादी 24864 है तथा वर्तमान मे नगर की आबादी करीब 35000 से अधिक है।फालना नगर राज्‍य महामार्ग नं. 16 जोधपुर-साण्‍डेराव-उदयपुर मार्ग पर स्थित है फालना रेल्‍वे स्‍टेशन दिल्‍ली - अहमदाबाद - मुम्‍बई ब्राडगेज रेल्‍वे मार्ग पर स्थित है तथा यंहा से प्रतिदिन हजारो यात्री अपनी यात्रा की शुरूआत करते है । रेल्‍वे की महत्‍वपूर्ण कॉरीडोर योजना मे भी फालना स्‍टेशन जुडा हुआ है। फालना नगर स्‍वंय धार्मिक पर्यटन स्‍थल है तथा नगर के मुख्‍य बाजार मे '' श्रीपार्श्‍वनाथ जैन स्‍वर्ण मंदिर'' स्थित है जंहा पर हजारो तीर्थ यात्री मंदिर दर्शनार्थ आते है। फालना शहर से 35 किलोमीटर दुर विश्‍व प्रसिद्ध ''रणकपुर जैन मंदिर'' स्थित है जंहा प्रत‍िदिन हजारो देशी-विदेशी पर्यटक मंदिर की स्‍थापत्‍य कला देखने के लिए आते है तथा फालना नगर से गुूजरते है ।

फालना नगर पश्चिम राजस्‍थान का आंशिक डेजेट पार्ट है एवं चारो तरु जिला जोधपुर, राजसमन्‍द, सिरोही एवं जालोर की सीमाऐं स्थित है । फालना नगर के चारो तरफ व़हद स्‍तर पर क़षि भुमिया स्थित है जहां पर विभिन्‍न फसले जैसे चना, सरसो, मुंग, मक्‍का, गेहुॅ, कपास इत्‍यादि की खेती होती है

फालना नगर एक महत्‍वूपूर्ण औघोगिक नगरी है तथा उघोग मण्‍डल फालना के नाम से औघोगिक क्षेत्र मे विश्‍व प्रसिंद्ध छाता, डिश ऐन्‍टेना, क़षि उपकरण इत्‍यादि मेन्‍युफेक्‍चरिग उघोग स्‍थापितहै।

                  

: : Visits count
Webpage Last Updated on : May 30, 2016