Important Schemes

मण्डल की महत्त्वपूर्ण योजनाएँ -

मानसरोवर, जयपुर

जयपुर शहर में आवास हेतु वर्ष 1979 से पंजीकृत आवेदकों के लिए मानसरोवर योजना विकसित की गयी थी। इस योजना में दिसम्बर 2016 तक विभिन्न श्रेणी के 27930 आवासों का निर्माण प्रारम्भ किया गया था जिसमें से 27478 आवासों का निर्माण पूर्ण कर 27135 आवास आवंटियों को हस्तांतरित किये जा चुके हैं।

रामकृष्ण अपार्टमेन्ट : शिप्रा पथ मानसरोवर में स्ववित्त पोषित योजना के अन्तर्गत मध्यम आय वर्ग ‘‘ब‘‘ के कुल 180 फ्लैट्स (स्टिल्ट+9) का निर्माण कर 176 फ्लैट्स का आवंटन कर 169 फ्लैट्स के कब्जे दिये जा चुके हैं।

द्वारका अपार्टमेन्ट : पूर्व पंजीकृत आवेदकों हेतु द्वारका पथ मानसरोवर में मध्यम् आय वर्ग ‘‘ब‘‘ के 324 फ्लैट्स (स्टिल्ट+9) का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया गया था जिसमें से कुल 222 फ्लैट्स का आवंटन किया जा चुका है।

अरावली अपार्टमेन्ट: पूर्व पंजीकृत आवेदकों हेतु स्ववित्त पोषित योजना के अन्तर्गत न्यू सांगानेर रोड, सेक्टर-8 में उच्च आय वर्ग के 104 फ्लैट्स (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+13) फ्लैट्स का निर्माण कार्य प्रगति पर है जिसमें से 58 पूर्व पंजीकृत आवेदकों को फ्लैट्स आवंटन हेतु योग्य पाया गया एवं 47 फ्लैट्स का आवंटन किया जा चुका है।

बहुमंजिली स्ववित्त पोषित योजना : 189 बहुमंजिले (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+12) स्ववित्त पोषित योजना 2012 एवं 2014 के अन्तर्गत द्वारका पथ पर 189 आवास नियोजित किये जाकर 96 आवासों का निर्माण कार्य मार्च 2015 में प्रारम्भ किया गया, जिसमें से 82 फ्लैट्स  का आवंटन किया जा चुका है। शेष 93 आवासों के निर्माण कार्य की प्रशासनिक स्वीकृति राज्य सरकार से अपेक्षित है। साथ ही द्वारका पथ पर पूर्व पंजीकृत लम्बित आवेदकों हेतु बहुमंजिले 72 उच्च आय वर्ग (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+9) के आवास नियोजित किये जाकर निर्माण कार्य प्रगति पर है। जिसमें से 30 फ्लैट्स  का आवंटन किया जा चुका है।

इंदिरा गांधी नगर योजना, जगतपुरा, जयपुर     

राजस्थान आवासन मण्डल के अधीन वर्तमान में जयपुर शहर में इन्दिरा गांधी नगर योजना निर्माणाधीन है इस योजनाओं में विभिन्न आय वर्ग के कुल 8999 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 8623 आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण कर दिया गया है। योजना में कुल 8811 आवासों का आवंटन कर 7442 आवासों का भौतिक कब्जा आवंटियों को संभलवाया जा चुका है। इस योजना में वर्तमान में निम्न मुख्य योजनाऐं प्रगति में है:-

मध्यम आय वर्ग ’ब’ (बी+एस+9) के 360 फ्लेट्स का निर्माण कार्य।

मध्यम आय वर्ग ‘ब’ (बी+एस+9) के 360 निर्माण सेक्टर-08, इन्दिरा गांधी नगर योजना से पूर्ण कर लिया गया है। इन फ्लेट्स हेतु पंजीकरण स्ववित्त पोषित योजना के तहत दिनांक 14.12.2012 से 21.01.2013 तक किया गया था। फ्लेट्स के निर्माण के साथ-साथ इस योजना के समस्त विकास कार्य भी लगभग पूर्ण कर लिये गये है। वर्तमान में फ्लेट्स की लागत निर्धारण का कार्य किया जा रहा है। लागत निर्धारित कर मार्च 2017 से भौतिक कब्जा संम्भलाने का कार्य प्रारम्भ कर दिया जायेगा।

                मध्यम आय वर्ग ‘अ’ (जी+3) 208 फ्लेट्स का निर्माण कार्य।

मध्यम आय वर्ग ‘अ’ के 208 फ्लेट्स हेतु पंजीकरण दिनांक 19.12.2014 से 18.01.2015 तक किया गया था। इस योजना के तहत सेक्टर-04 में 24 फ्लेट्स का निर्माण कार्य सेक्टर-05 में 24 फ्लेट्स का निर्माण कार्य व सेक्टर-07 में 160 फ्लेट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। सेक्टर-04 व 05 के 48 फ्लेट्स में विकास कार्य भी लगभग पूर्ण कर लिया गया है। सेक्टर-07 के 160 फ्लेट्स हेतु बाह्य विकास कार्य की प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति का प्रस्ताव स्वीकृत हेतु लाभान्वित है।

             अल्प आय वर्ग (जी+3)  के 144 फ्लेट्स का निर्माण कार्य।

अल्प आय वर्ग (जी+3) के 144 फ्लेट्स हेतु पंजीकरण योजना दिनांक 19.12.2014 से 18.01.2015 तक प्रारम्भ की गई थी। इस फ्लेट्स का निर्माण कार्य सेक्टर-09 में लगभग पूर्ण कर लिया गया है। योजना में बाह्य विकास कार्यो हेतु प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति का प्रस्ताव स्वीकृति हेतु लाभान्वित है। 

             अल्प आय वर्ग के 148 आवासों का निर्माण कार्य।

अल्प आय वर्ग के पूर्ण पंजीकृत आवेदकों हेतु 148 आवासों का निर्माण कार्य वर्ष 2012 में प्रारम्भ किया गया था। लेकिन संवेदक द्वारा निर्माण अधूरा छोडे जाने के उपरान्त यह कार्य अन्य संवेदक के माध्यम से पूर्ण करवाकर इन आवासों के भौतिक कब्जे संभलवाने का कार्य वर्तमान में प्रगति पर है।

प्रताप नगर, सांगानेर (जयपुर) में चालू योजनाएं

प्रताप नगर सांगानेर (जयपुर) में दिसम्बर 2016 तक 36965* आवास/फ्लैटो का निर्माण प्रारम्भ कर 35566*  आवास/फ्लैट पूर्ण किये गये है। इनमें से 30736 का भौतिक कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है एवं वर्तमान में प्रतापनगर सांगानेर योजना में विभिन्न आय वर्ग के 1399 फ्लैटो का निर्माण कार्य प्रगति पर है। वर्ष 2016-17 में 2455 फ्लैट पूर्ण करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिसमें से 2088 फ्लैटो पूर्ण किये जा चुके है।

*महला आवासीय योजना के 1584 आवासों सहित

राज आंगन : अप्रवासी भारतीय / अप्रवासी राजस्थानियों के लिए एक विशिष्ट गृह योजना सैक्टर-24 में मण्डल द्वारा वर्ष 2000 में आरम्भ की गई थी जिसमें 303 विभिन्न श्रेणी के आवासों की टाउनशिप विकसित की गयी। यह योजना 57 हैक्टेयर्स में फैली हुई है। इस योजना के चारों तरफ 18 मीटर चैड़ी घनी हरित पट्टी विकसित की गयी। योजनान्तर्गत 303 आवास नियोजित किये गये थे जिसमें से 301 पंजीकरण के विरूद्ध दिसम्बर 2016 तक 293 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 293 आवास पूर्ण किये जाकर 291 आवासों का कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है।

प्रताप एन्क्लेव‘ योजना : राज आंगन परियोजना में राज्य के स्थानीय आवेदकों के रूझान को देखते हुए उच्च आय वर्ग के आवेदकों के लिए स्ववित्त पोषित योजना के अन्तर्गत 240 विशिष्ट मापदण्डों के आधुनिक ड्यूप्लेक्स आवासों की एक अन्य योजना ‘तक्षक‘  का शुभारम्भ सेक्टर-25 में 16 फरवरी, 2005 को किया गया था, जिसका नाम परिवर्तित कर ‘प्रताप एन्क्लेव‘ योजना कर दिया गया है। इस योजना में कुल 216 आवेदकों द्वारा पंजीकरण करवाया गया है। इनमें से प्रथम चरण व द्वितीय चरण में कुल 216 ड्यूप्लेक्स आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण कर 215 आवासों का कब्जा आवंटियों को सौंपा जा चुका है। योजना में निर्मित सभी आवास उच्च आय वर्ग डुप्लेक्स श्रेणी के बनाये गये हैं।

प्रताप अपार्टमेंट : समूह बहुमंजिली आवासीय योजना (स्टिल्ट+10) सांगानेर में वीरांगना विहार योजना सहित लम्बित पंजीकृत आवेदको हेतु सेक्टर-29 में स्ववित्त पोषित/पंजीकरण योजनान्तर्गत अल्प आय वर्ग के 660,  मध्यम आय वर्ग ‘अ‘ के 300,  मध्यम आय वर्ग ‘ब‘ के 220 एवं उच्च  आय  वर्ग  के 200 फ्लैट्स कुल 1380 फ्लेट्स का निर्माण किया गया है। इनमें से 1380 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर 1284 फ्लैट्स का आवंटन दिसम्बर 2016 तक कर दिया गया है। इसी योजना में वीरांगनाओं को अल्प आय वर्ग के 144 एवं मध्यम आय वर्ग अ के 63 कुल 207 फ्लैट्स का आवंटन किया जा चुका है। इस योजना में दिसम्बर 2016 तक 883 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है।

मेवाड़ अपार्टमेंट : समूह बहुमंजिली आवासीय योजना (स्टिल्ट+9) जयपुर के प्रतापनगर के सैक्टर-15 में स्ववित्त पोषित योजनान्तर्गत उच्च आय वर्ग के 352 फ्लैट्स का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 342 फ्लैट्स को आवंटित कर 311 फ्लैट्स का कब्जा दे दिया गया है। 

कृष्णा अपार्टमेन्ट : सैक्टर-28 मे आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के लिये 1024 (जी+3) के आवास नियोजित किये गये है। सभी आवासों का निर्माण पूर्ण कर 1020 का आवंटन कर दिया गया है एवं दिसम्बर 2016 तक 964 आवासों का कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है।

चिनाब अपार्टमेन्ट : सेक्टर-28 में समूह आवासीय योजन में मध्यम आय वर्ग (अ) के भूतल + तीन मंजिल 880 फ्लेटों का कार्य पूर्ण कर दिया गया है, पूर्ण आवासों में से दिसम्बर 2016 तक 628 आवंटियों को कब्जा दिया जा चुका है।

अलकनन्दा अपार्टमेन्ट : समूह आवासीय योजना के अन्तर्गत अल्प आय वर्ग के प्रतीक्षारत समान्य पंजीकृत योजना के आवेदको हेतु सेक्टर-9, प्रतापगनर  में भूतल + तीन मंजिले 272 फ्लेटों का निर्माण कार्य पूर्ण किया जा चुका है। इनमें से 263 फ्लैटो का कब्जा दिसम्बर 2016 तक आवंटियों को दिया जा चुका है।

रावी अपार्टमेन्ट : सेक्टर-28 में समूह आवासीय योजना के अन्तर्गत अल्प आय वर्ग के सामान्य पंजीकरण योजना के प्रतीक्षारत आवेदकों हेतु 272 (जी +3) फ्लेटों का निर्माण कार्य किया गया था। इनमें से 272 फ्लैट्स का आवंटन कर 257 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है।

सतलुज अपार्टमेन्ट: सैक्टर 28 में अल्प आय वर्ग के लिये 416  (जी +3)  फ्लैट्स नियोजित किये गये है, सभी फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर 385 फ्लैटों का आवंटन दिसम्बर 2016 तक किया जा चुका है। इनमें से 318 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका है।

व्यास अपार्टमेन्ट : सैक्टर-11 में मध्यम आय वर्ग ‘ब’ के  (जी+2) के 108, मध्यम आय वर्ग-ब (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+10) के 160 एवं उच्च आय वर्ग (जी+2) के 96 फ्लैट्स कुल 364 फ्लैटस का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 364 फ्लैट्स पूर्ण किये जा चुके है। इनमें से 300 फ्लैट्स का आवंटन कर मध्यम आय वर्ग-ब (जी+2) के 105 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका है। उच्च आय वर्ग (जी+2) के 96 फ्लैट्स का कार्य पूर्ण हो चुका है। दिसम्बर 2016 तक इनमें से 70 फ्लैटो का आवंटन कर 50 फ्लैटो का कब्जा दिया जा चुका है। मध्यम आय वर्ग व (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+10) के 160 फ्लैटों में सें 126 फ्लैट आवंटित कर 98 फ्लैटस् का कब्जा दिया जा चुका हैं। 

बनास अपार्टमेन्ट,  सैक्टर-26 में स्ववित्त पेाषित योजना के तहत (एस+10) उच्च आय वर्ग के 80 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर दिया गया है। दिसम्बर 2016 तक इनमें से 78 फ्लैट्स का आवंटन कर 68 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका है।

सरयू अपार्टमेन्ट,  सैक्टर-26 में स्ववित्त पेाषित योजना के तहत (एस+10) उच्च आय वर्ग के 80 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर दिया गया है। दिसम्बर 2016 तक इनमें से 71 फ्लैट्स का आवंटन कर 50 फ्लैट का कब्जा दिया जा चुका है।

प्रताप नगर योजना के सैक्टर-26 जोन 263 में स्ववित्त पेाषित योजना के तहत (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+10) उच्च आय वर्ग के 80 फ्लैट्स का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

सरस्वती अपार्टमेन्टः सेक्टर-18 में मुख्य कुम्भा मार्ग पर मध्यम आय वर्ग-ब के (एस+6) के 240 फ्लैट्स नियोजित है,  इनमें से 240 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका हैं। दिसम्बर 2016 तक 170 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका है।

गोमती अपार्टमेन्टः  सेक्टर-18 में मध्यम आय वर्ग-अ के (एस+11) के 440 फ्लैटो का नियोजन कर पंजीकरण आमंत्रित कर कुल 396 फ्लैटों का निर्माण किया गया है। इन फ्लैटों हेतु कुल 397 पंजीकरण प्राप्त हुए थे। जिसमें से दिसम्बर 2016 तक 396 फ्लैट पूर्ण कर 217 फ्लैट्स आवंटित किये जा चुके है।

झेलम अपार्टमेन्टः सेक्टर-28 में मध्यम आय वर्ग -अ के  160 (जी+3)  फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग -ब के 192 कुल 352 फ्लैट्स (जी+3) का नियोजन किया गया था, जिसमें से मध्यम आय वर्ग-अ के 160 फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग-ब के 192 फ्लैट्स का निर्माण पूर्ण कर मध्यम आय वर्ग-अ के 104 फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग-ब के 171 फ्लैट्स का भौतिक कब्जा दिसम्बर 2016 तक आवंटियों को दिया जा चुका है शेष के कब्जे दिये जाने की प्रक्रिया जारी है।

गोदावरी अपार्टमेन्टः सेक्टर-29 में अफोर्डेबल योजना के अन्तर्गत आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग (जी+3) के 416,  अल्प आय वर्ग के (जी+3) के 368 व मध्यम आय वर्ग -अ के (जी+3) 160, कुल 944 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। कमजोर आय वर्ग के 313 फ्लैट्स, अल्प आय वर्ग के 301 फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग-अ के 132 फ्लैट्स का भौतिक कब्जा आवंटियों को सम्भलवाया जा चुका है, शेष फ्लेट्स का भौतिक कब्जा दिये जाने की प्रक्रिया जारी है।

नर्मदा अपार्टमेन्टः प्रताप नगर आवासीय योजना के सेक्टर-8 में चेतक मार्ग पर स्‍ववित्‍त पोषित योजना के अन्तर्गत मध्यम आय वर्ग-ब (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+11) के 88 फ्लैट्स का निर्माण पूर्ण किया जा चुका है। 82 फ्लैट्स का दिसम्बर 2016 तक आवंटन कर 49 फ्लैटों का कब्जा दिया जा चुका हैं। 

साबरमती अपार्टमेन्टः प्रताप नगर आवासीय योजना के सेक्टर-17 में स्ववित्‍त पोषित योजना के अन्तर्गत मध्यम आय वर्ग-अ (स्टिल्ट+9) के 72 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण किया जा चुका है तथा 53 फ्लैटो का आवंटन कर 41 फ्लैटों कब्जा दिया जा चुका हैं।

महला आवासीय योजनाः जयपुर वृत प्रथम के अधीन आवासन मण्डल द्वारा प्रारम्भ की गई महला आवासीय योजना जयपुर अन्र्तराष्ट्रीय हवाई हड्डे से लगभग 55.00 किलोमीटर,  सिन्धी कैम्प बस स्टैण्ड से लगभग 37 किलोमीटर व जयपुर रेल्वे स्टेशन से लगभग 39 किलोमीटर दूर जयपुर अजमेर राष्ट्रीय राजमार्ग पर बगरू व दूदू के मध्य तथा राजमार्ग के दाहिनी ओर ज्योति विद्यापीठ महिला विश्‍व विद्यालय के सामने स्थित है। इस योजना के क्षेत्रफल लगभग 70.44 हैक्टेयर (279.00 बीघा) है। इस योजना में आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 336 फ्लैट, अल्प आय वर्ग के 1440 फ्लैट एवं मध्यम आय वर्ग-अ के 272 फ्लैट कुल 2048 फ्लैट (जी+3) टाईप के फ्लैट्स बनाये जाने है। इसमें से प्रथम चरण में दिनांक 28.02.2014 से 31.03.2014 तक अल्प आय वर्ग के 416 फ्लैट्स (जी+3) हेतु योजना प्रारम्भ की गई थी, जिसके लिये 1801 आवंटियों द्वारा आवेदन किया गया था।

    इस योजना के द्वितीय चरण में दिनांक 23.06.2014  से 22.07.2014 तक आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 112 फ्लेट्स हेतु एवं मध्यम आय वर्ग ‘अ’, के 128 (जी+3) टाईप के फ्लैट हेतु योजना प्रारम्भ की गई थी, जिनके लिये क्रमश: आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 2083 आवंटियों ने एवं मध्यम आय वर्ग ‘अ’ के 160 आवंटियों द्वारा आवेदन किया गया था। इस योजना के तृतीय चरण में अल्प आय वर्ग के 304 फ्लेट्स हेतु एवं चतुर्थ चरण में अल्प आय वर्ग के 624 (जी+3) टाईप के फ्लैट हेतु योजना प्रारम्भ की गई थी।

             महला आवासीय योजना में दिसम्बर 2016 तक निर्मित फ्लैटों की वस्तुस्थिति का विवरणः-

Category

Planned

Taken up

Completion

Allotted

EWS

336

112

112

98

LIG

1440

1344

1344

1142

MIG-A

272

128

128

102

Total

2048

1584

1584

1342

 

जोधपुर

       चौपासनी योजना] जोधपुर

         चैपासनी आवासीय योजना में माह दिसम्बर 2016 के अन्त तक 13795 आवासों/फ्लेटों का निर्माण प्रारम्भ कर कुल 13471 आवासों / फ्लेटो का निर्माण पूर्ण किया गया तथा 13702 आवासों/फ्लेटो का आवंटन आवेदकों का कर दिया गया है तथा कुल 13442 आवासों/फ्लेटो का भौतिक कब्जा आवेदकों को सुपुर्द कर दिया गया है।

       मारवाड़ अपार्टमेन्ट : चौपासनी आवासीय योजना के सेक्टर 14-ई में विभिन्न आय वर्ग के कुल 396 बहुमंजिले आवास नियोजित किये गये है। इस योजना के प्रथम चरण में मध्यम आय वर्ग-ब के 144 (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+9) फ्लेटों का निर्माण कर 139 फ्लेटों का आवंटन कर 123 कब्जा सुपुर्द कर दिया गया है तथा 5 फ्लेटों का निस्तारण नीलामी द्वारा किया जाना है। इसी योजना में मध्यम आय वर्ग-ब के 72 फ्लेटों का निर्माण कर 65 फ्लेटों का आवंटन कर दिया गया है। वर्तमान में इस योजना में 36 उच्च आय वर्ग एवं 36 मध्यम आय वर्ग-ब (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+9) के फ्लेटों का निमार्ण कार्य प्रगति पर है।

         उद्यान अपार्टमेन्ट : चौपासनी योजना के सेक्टर 21-ई एवं 22 में मध्यम आय वर्ग-अ के कुल 224 (जी+3) फ्लेटों का निर्माण कर 222 फ्लेटों का आवंटन किया जाकर माह दिसम्बर 2016 के अन्त तक 218 फ्लेटों का भौतिक कब्जा सुपुर्द कर दिया गया है। इसी योजना में उच्च आय वर्ग (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+9) के 144 एवं मध्यम आय वर्ग-ब के 36 फ्लेटों का निर्माण कार्य प्रगति पर है। उच्च आय वर्ग के 128 तथा आय वर्ग-ब के 22 फ्लेटों का आवंटन किया जा चुका है।

         कुड़ी भगतासनी योजना, जोधपुर

         कुड़ी भगतासनी आवासीय योजना में माह दिसम्बर 2016 के अन्त तक 15805 आवासों/फ्लेटों का निर्माण प्रारम्भ कर कुल 14813 आवासों/फ्लेटो का निर्माण पूर्ण किया गया तथा 15370 आवासों/फ्लेटो का आवंटन आवेदकों का कर दिया गया है तथा कुल 13056 आवासों/फ्लेटो का भौतिक कब्जा आवेदकों को सुपुर्द कर दिया गया है। योजना में वर्तमान में 992 आवासों/फ्लेटों का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

         विवेक विहार योजना, जोधपुर

         विवेक विहार योजना, जोधपुर में माह दिसम्बर 2016 के अन्त तक 1936 फ्लेटों का निर्माण प्रारम्भ कर कुल 1936 फ्लेटो का निर्माण पूर्ण किया गया तथा 1798 फ्लेटो का आवंटन आवेदकों का कर दिया गया है तथा कुल 327 फ्लेटो का भौतिक कब्जा आवेदकों को सुपुर्द कर दिया गया है। 

 

         केरू आवासीय योजना, जोधपुर : जोधपुर विकास प्राधिकरण, जोधपुर की ग्राम केरू (जोधपुर) के खसरा न. 812 में से कुल 1500 बीघा भूमि राजस्थान आवासन मण्डल, जोधपुर को आवंटित की गई है जिसके लिये जोधपुर विकास प्राधिकरण को लगभग 150.00 करोड़ रू. का भुगतान किया जाकर भूमि का कब्जा प्राप्त कर लिया गया है। उक्त भूमि पर योजना विकसित करने हेतु प्लानिंग की जा रही है। तत्पश्चात पंजीकरण योजना प्रारम्भ की जानी प्रस्तावित है। इसी योजना में जोधपुर विकास प्राधिकरण से 1000 बीघा ग्राम कैरू के खसरा न.812 में से अतिरिक्त भूमि आवंटन हेतु निवेदन किया गया है।

         बड़ली आवासीय योजना, जोधपुर: मण्डल की आवासीय योजनाओ के लिए भूमि आवंटन के लिए जिला कलेक्टर जोधपुर को सचिव राजस्थान आवासन मण्डल के द्वारा प्रेषित पत्र क्रमांक 1693 दिनांक 20.04.2006 के द्वारा निवेदन किया गया तथा अन्य विविध पत्रो द्वारा सिवाय चक राजकीय भूमि आवंटन के लिए निवेदन किया गया। इस क्रम में दिनांक 21.07.2008 को प्रमुख शासन सचिव नगरीय विकास विभाग राजस्थान सरकार की अध्यक्षता में नगर विकास प्राधिकरण जोधपुर की ग्राम बडली की 1100 बीघा भूमि राजस्थान आवासन मण्डल को आवंटित किये जाने का निर्णय किया गया। उक्त भूमि का कब्जा राजस्थान आवासन मण्डल द्वारा प्राप्त कर लिया गया है। हाल ही में माननीया मुख्यमंत्री जन आवास योजना के तहत पी.पी.पी.मॉडल के तहत योजना हेतु प्रस्ताव आमंत्रित किये गये है।

भिवाड़ी (अलवर)

       भिवाडी शहर में माह दिसम्बर 2016 तक 6103 आवास/फ्लेट्स का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया गया है, जिसमें से 5884 आवास/फ्लेट्स का आवंटन कर 4837 आवास/फ्लेट्स का हस्तान्तरण किया जा चुका है। भिवाडी की अरावली विहार योजना में आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 288 फ्लेट्स, अल्प आय वर्ग के 256 फ्लेट्स, मध्यम आय वर्ग ‘अ‘ के 112 फ्लेट्स का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

उदयपुर

       उदयपुर शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 9869 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 9869 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 9850 आवासो का आवंटन कर 9770 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       सलुम्बर शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 287 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 287 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 286 आवासों का आवंटन कर 260 आवासों का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       राजसमंद शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 1289 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 1289 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 1256 आवासो का आवंटन कर 1191 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       भीलवाडा शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 7530 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 7530 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 7422 आवासो का आवंटन कर 6776 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       चित्तोडगढ शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 2050 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 2050 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 2050 आवासो का आवंटन कर 2004 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       निम्बाहेडा शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 1164 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 1164 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 1146 आवासो का आवंटन कर 1056 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       बांसवाडा शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 2861 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 2860 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 2852 आवासो का आवंटन कर 2807 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       सागवाडा शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 1086 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 1081 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 1081 आवासो का आवंटन कर 936 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       परतापुर शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 829 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 829 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 787 आवासो का आवंटन कर 601 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

       डूंगरपुर शहर में माह दिसम्बर 2016 तक कुल 2282 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 2280 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 2263 आवासो का आवंटन कर 2206 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किये जा चुके है।

कोटा

       कोटा वृत्त के अधीन चार जिलों कोटा, बूंदी, झालावाड तथा बारां जिलों में विभिन्न स्थानों पर मण्डल द्वारा आवासीय कॉलोनियों का निर्माण किया गया है / प्रगति पर है इन कॉलोनियों में विभिन्न आय वर्ग के कुल 30683 आवासों का निर्माण कार्य मण्डल द्वारा हाथ में लिया गया है।

       कोटा शहर में मण्डल द्वारा अब तक 23478 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया जा कर 23454 आवासों का आवंटन किया जाकर 23381 आवासों का कब्जा माह दिसम्बर 2016 तक कर दिये जा चुके है। वर्तमान में कोटा शहर में कुल 205 पंजीकृत आवेदक आवासों के आवंटन हेतु प्रतीक्षारत है। कोटा शहर हेतु ग्राम रामपुरिया की कुल 2800 बीघा राजकीय सिवायचक भूमि के आवंटन का प्रस्ताव जिला कलेक्टर भूमि की अनुशंसा के साथ राज्य सरकार को प्रेषित किया हुआ है, राज्य सरकार के स्तर से शीघ्र ही आवंटन अपेक्षित है।     

       कोटा वृत्त के अधीन महत्वपूर्ण योजनाओं का विवरण निम्नानुसार है-   

(अ) कुन्हाडी आवासीय योजना कोटा – कुन्हाडी योजना में अब तक विभिन्न आय वर्ग के 427 आवासों का निर्माण किया जाकर आवंटन किया जा चुका है। द्वारकापुरी योजना में भी अल्प आय वर्ग के 120 (जी+3) फ्लेट्स का निर्माण किया जाकर आवंटन किया जा चुका है तथा अब तक 112 आवंटियों को कब्जे दिये जा चुके है। वर्तमान में ग्रुप हाउसिंग के मध्‍यम आय वर्ग-ब  (एस+6) 24 फ्लैट्स का निर्माण कार्य प्रगति पर है जिनमें योग्य 17 आवेदकों को फ्लेट्स आवंटित कर दिये गये है।

(ब) स्वामी विवेकानन्द योजना कोटा - इस योजना में अब तक विभिन्न आय वर्ग के 2612 आवासों का निर्माण किया जाकर आवंटन किया जा चुका है तथा 2605 आवासों के कब्जे दिये जा चुके है।

(स) झालावाड़ आवासीय योजना - झालावाड़ आवासीय योजना में कुल 530 आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण किया जाकर 524 आवासों का आवंटन अब तक किया जा चुका है तथा अब तक 467 आवासों के कब्जे दिये जा चुके है।

बीकानेर

       बीकानेर शहर मे आवासन मण्डल द्वारा माह दिसम्बर 2016 तक दो योजनाओं यथा पवनपुरी एवं  मुक्ताप्रसाद नगर विकसित की गयी है जिनमें से पवनपुरी योजना में 1583 आवासों का निर्माण पूर्ण किया जाकर आवेदकों को कब्जा दिया जा चुका है। जबकि मुक्ताप्रसाद नगर मे 4878 आवासों का निर्माण प्रारम्भ किया गया जिनमें से 4638 आवासों का निर्माण पूर्ण कर 4541 आवासों का कब्जा आवेदकों को दिया जा चुका है। बीकानेर शहर में आवासन मण्डल की एक अन्य महत्वपूर्ण शिवबाडी योजना के अन्तर्गत 579.526  हैक्टेयर भूमि अवाप्ताधीन है, जिसमें से राज्य सरकार द्वारा 547.4458 हैक्टेयर भूमि का अवार्ड तीन चरणों मे जारी कर दिया गया है, भूमि समझौता समिति की बैठक होना अपेक्षित है।

 

Social Links
    : : visits count
    Webpage Last Updated on : Apr 26, 2017