Menu

Important Schemes

मण्डल की महत्त्वपूर्ण योजनाएँ -

मानसरोवर, जयपुर

जयपुर शहर में आवास हेतु वर्ष 1979 के पंजीकृत आवेदकों के लिए मानसरोवर योजना विकसित की गयी थी। इस योजना में दिसम्बर 2019 तक विभिन्न श्रेणी के 28023 आवासों का निर्माण प्रारम्भ किया गया था जिसमें से 27930 आवासों का निर्माण पूर्ण कर 27359 आवास आवंटियों को हस्तांतरित किये जा चुके हैं।

रामकृष्ण अपार्टमेन्ट: षिप्रा पथ मानसरोवर में स्ववित्त पोषित योजना के अन्तर्गत मध्यम आय वर्ग ‘‘ब‘‘ के कुल 180 फ्लैट्स (स्टिल्ट+9) का निर्माण कर 180 फ्लैट्स का आवंटन कर 178 फ्लैट्स के कब्जे दिये जा चुके हैं।

द्वारका अपार्टमेन्ट: पूर्व पंजीकृत आवेदकों हेतु द्वारका पथ मानसरोवर में मध्यम आय वर्ग ‘‘ब‘‘ के 324 फ्लैट्स (स्टिल्ट+9) का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया गया था जिसमें से कुल 237 फ्लैट्स का आवंटन कर 80 फ्लैट्स के कब्जे दिये जा चुके हैं।

अरावली अपार्टमेन्ट: पूर्व पंजीकृत आवेदकों हेतु स्ववित्त पोषित योजना के अन्तर्गत न्यू सांगानेर रोड, सेक्टर-8 में उच्च आय वर्ग के 104 फ्लैट्स (बेसमेन्ट+स्टिल्ट+13) फ्लैट्स का निर्माण कार्य प्रगति पूर्ण हो चुका है तथा 47 फ्लैट्स का आवंटन किया जाकर 16 फ्लैट्स का कब्जा संबधित आवंटियों को दिया जा चुका है।

द्वारका रेजीडेन्सी: स्ववित्त पोषित योजना 2012 एवं 2014 के अन्तर्गत द्वारका पथ पर 189 बहुमंजिले (B+S+12) आवास नियोजित किये जाकर 96 आवासों का निर्माण कार्य मार्च 2015 में प्रारम्भ किया गया, इन आवासों का निर्माण पूर्ण कर 82 फ्लैट्स  का आवंटन कर 55 फ्लैट्स का भौतिक कब्जा दिया जा चुका है। शेष 93 आवासो के निर्माण कार्य अगस्त 2019 से प्रारम्भ कर दिया गया है।

द्वारका टिव्न्स: द्वारका पथ पर पूर्व पंजीकृत लम्बित आवेदकों हेतु 72 उच्च आय वर्ग (B+S+9) के बहुमंजिले आवास नियोजित किये जाकर निर्माण कार्य प्रगति पर है। जिसमें से 56 फ्लैट्स का आवंटन कर 26 फ्लैट्स  का भौतिक कब्जा दिया जा चुका है।

इंदिरा गांधी नगर योजना, जगतपुरा, जयपुर 

आवासन मण्डल द्वारा विकसित की गई आवासीय योजना, इन्दिरा गांधी नगर, जगतपुरा, जयपुर शहर में खातीपुरा रेलवे स्टेशन के समीप जयपुर-दिल्ली रेलवे लाइन के उत्तर दिशा में स्थित है। जिसमें विभिन्न आय वर्ग के 9,000 आवासों का निर्माण किया जा चुका है तथा 8,868 आवासों का आवंटन किया जाकर 8,088 आवासों का कब्जा आवंटियों को संभलवाया जा चुका है।

मध्यम आय वर्ग ‘‘ब‘‘ श्रेणी की आवासीय योजनाएं :- 

कंचनजंघा अपार्टमेंट

स्ववित्त पोषित योजना-2012 (भाग द्वितीय) के तहत महानदी मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-8 में पृथक से चार दीवारी में मध्यम आय वर्ग ‘‘ब‘‘ (बी+एस+9) के 6 ब्लॉक्‍स में 2 भूखण्डों पर कुल 360 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 238 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 3 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 1245 वर्ग फीट है एवं योजना में तलघर, स्टिल्ट तथा खुले क्षेत्र में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है। अपार्टमेंट में प्रत्येक ब्लॉक में दो लिफ्ट की सुविधा उपलब्ध है। लिफ्ट एवं कॉमन स्पेस में 24 घंटे बिजली आपूर्ति हेतु पावर बैक-अप कार्यरत है। पानी हेतु पृथक से टैंक निर्मित है। साथ ही अग्निशमन संयंत्र स्थापित एवं संचालित है।

मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ श्रेणी की आवासीय योजनाएं :- 

शिवालिक अपार्टमेंट

चम्बल मार्ग 60 फीट सड़क पर, सैक्टर-4 में विभिन्न चरणों में 3 भूखण्डों पर ब्लॉक बी, सी, डी के रूप में मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ (जी+3) के कुल 216 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 175 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 715 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

नीलकंठ अपार्टमेंट

चम्बल मार्ग 60 फीट सड़क पर, सैक्टर-5 में विभिन्न चरणों में 3 भूखण्डों पर ब्लॉक ए, बी, सी के रूप में मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ (जी+3) के कुल 144 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 121 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 715 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

गुरूशिखर अपार्टमेंट

चम्बल मार्ग 60 फीट सड़क पर, सैक्टर-6 में मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ (जी+3) के कुल 80 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 57 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 715 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

विन्ध्यांचल अपार्टमेंट

महानदी मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-7 में मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ (जी+3) के कुल 112 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 95 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 715 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

रत्नागिरी अपार्टमेंट

महानदी मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-7 में मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ (जी+3) के कुल 160 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 74 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 715 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

अरावली अपार्टमेंट

सरस्वती मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-9 में विभिन्न चरणों में मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ (जी+3) के कुल 192 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 147 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 694 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

नीलगिरी अपार्टमेंट

सरस्वती मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-10 में मध्यम आय वर्ग ‘‘अ‘‘ (जी+3) के कुल 208 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 169 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 715 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

अल्प आय वर्ग श्रेणी की आवासीय योजनाएं :-

सरस्वती मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-9 में अल्प आय वर्ग (जी+3) के कुल 144 फ्लैट्स निर्मित किये गये हैं। परिसर में विकास कार्य प्रगति पर है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 476 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

धवलगिरी अपार्टमेंट

सरस्वती मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-10 में अल्प आय वर्ग (जी+3) के कुल 136 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 116 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 476 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

उदयगिरी अपार्टमेंट

पार्वती मार्ग 80 फीट सड़क पर, सैक्टर-12 में अल्प आय वर्ग (जी+3) के कुल 304 फ्लैट्स निर्मित किये गये एवं 227 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है। निर्मित फ्लैट में 2 बी.एच.के. का प्रावधान है, जिसका निर्मित क्षेत्रफल लगभग 476 वर्ग फीट है एवं योजना में पार्किंग हेतु समुचित स्थान उपलब्ध है।

प्रताप नगर, सांगानेर /महला  (जयपुर)

प्रताप नगर सांगानेर/महला (जयपुर) में दिसम्बर 2019 तक 36965 आवासों/फ्लैटो का निर्माण प्रारम्भ कर 35653 आवास/फ्लैट पूर्ण किये गये है। इनमें से 31678 का भौतिक कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है एवं वर्तमान में प्रताप नगर सांगानेर योजना में विभिन्न आय वर्ग के 1312 फ्लैटो का निर्माण कार्य प्रगति पर है।

राज आंगन: अप्रवासी भारतीय/अप्रवासी राजस्थानियों के लिए एक विशिष्ट गृह योजना सैक्टर-24 में मण्डल द्वारा वर्ष 2000 में आरम्भ की गई थी जिसमें 303 विभिन्न श्रेणी के आवासों की टाउनशिप विकसित की गयी। यह योजना 57 हैक्टेयर्स में फैली हुई है। इस योजना के चारों तरफ 18 मीटर चैड़ी घनी हरित पट्टी विकसित की गयी। योजनान्तर्गत 303 आवास नियोजित किये गये थे जिसमें से 301 पंजीकरण के विरूद्ध 293 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 293 आवास पूर्ण किये जाकर 291 आवासों का कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है।

‘प्रताप एन्क्लेव‘ योजना: राज आंगन परियोजना में राज्य के स्थानीय आवेदकों के रूझान को देखते हुए उच्च आय वर्ग के आवेदकों के लिए स्ववित्त पोषित योजना के अन्तर्गत 240 विशिष्ट मापदण्डों के आधुनिक ड्यूप्लेक्स आवासों की एक अन्य योजना ‘तक्षक‘ का शुभारम्भ सेक्टर-25 में 16 फरवरी, 2005 को किया गया था, जिसका नाम परिवर्तित कर ‘प्रताप एन्क्लेव‘ योजना कर दिया गया है। इस योजना में कुल 216 आवेदकों द्वारा पंजीकरण करवाया गया है। इनमें से प्रथम चरण व द्वितीय चरण में कुल 216 ड्यूप्लेक्स आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण कर 216 आवासों का कब्जा आवंटियों को सौंपा जा चुका है। योजना में निर्मित सभी आवास उच्च आय वर्ग डुप्लेक्स श्रेणी के बनाये गये हैं।

प्रताप अपार्टमेंट: समूह बहुमंजिली आवासीय योजना (S+10) सांगानेर में वीरांगना विहार योजना सहित लम्बित पंजीकृत आवेदको हेतु सेक्टर-29 में स्ववित्त पोषित/पंजीकरण योजनान्तर्गत अल्प आय वर्ग के 660, मध्यम आय वर्ग ‘अ‘ के 300, मध्यम आय वर्ग ‘ब‘ के 220 एवं उच्च  आय  वर्ग  के 200 फ्लैट्स कुल 1380 फ्लेट्स का निर्माण किया गया है। इनमें से 1380 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर 1308 फ्लैट्स का आवंटन किया जा चुका है। इसी योजना में वीरांगनाओं को अल्प आय वर्ग के 144 एवं मध्यम आय वर्ग अ के 63 कुल 207 फ्लैट्स का आवंटन किया जा चुका है। इस योजना में 942 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है।

मेवाड़ अपार्टमेंट: समूह बहुमंजिली आवासीय योजना (S+9) जयपुर के प्रतापनगर के सैक्टर-15 में स्ववित्त पोषित योजनान्तर्गत उच्च आय वर्ग के 352 फ्लैट्स का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 342 फ्लैट्स को आवंटित कर 312 फ्लैट्स का कब्जा दे दिया गया है। 

कृष्णा अपार्टमेन्ट: सैक्टर-28 में आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के लिये 1024 (G+3) के आवास नियोजित किये गये है। सभी आवासों का निर्माण पूर्ण कर 1020 का आवंटन कर दिया गया है एवं 967 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है।

चिनाब अपार्टमेन्ट: सेक्टर-28 में समूह आवासीय योजना में मध्यम आय वर्ग (अ) के (G+3) मंजिल 880 फ्लेटों का कार्य पूर्ण कर 836 का आवंटन कर दिया गया है एवं 695 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को सौपा जा चुका है।

अलकनन्दा अपार्टमेन्ट: समूह आवासीय योजना के अन्तर्गत अल्प आय वर्ग के प्रतीक्षारत समान्य पंजीकृत योजना के आवेदको हेतु सेक्टर-9, प्रताप गनर में (G+3)  मंजिले 272 फ्लेटों का निर्माण कार्य पूर्ण किया जा चुका है। इनमें से 267 फ्लैटो का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है।

रावी अपार्टमेन्ट: सेक्टर-28 में समूह आवासीय योजना के अन्तर्गत अल्प आय वर्ग के सामान्य पंजीकरण योजना के प्रतीक्षारत आवेदकों हेतु 272 (G+3) फ्लेटों का निर्माण कार्य किया गया था। इनमें से 272 फ्लैट्स का आवंटन कर 260 फ्लैट्स का कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है।

सतलुज अपार्टमेन्ट: सैक्टर 28 में अल्प आय वर्ग के लिये 416 (G+3) फ्लैट्स नियोजित किये गये है, सभी फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर 388 फ्लैटों का आवंटन किया जा चुका है। इनमें से 321 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका है।

व्यास अपार्टमेन्ट:  सैक्टर-11 में मध्यम आय वर्ग ‘‘ब’’(G+2) के 108, मध्यम आय वर्ग-ब (B+S+10) के 160 एवं उच्च आय वर्ग (G+2) के 96 फ्लैट्स कुल 364 फ्लैटस का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 364 फ्लैट्स पूर्ण किये जा चुके है। इनमें से मध्यम आय वर्ग-ब (G+2) के 108 फ्लैट्स आवंटित कर 107 फ्लैट्स एवं मध्यम आय वर्ग-ब (B+S+10) के 132 फ्लैट आवंटित कर 127 फ्लैटस् का कब्जा दिया जा चुका हैं। उच्च आय वर्ग (G+2) के 96 फ्लैट्स का कार्य पूर्ण हो चुका है। इनमें से 91 फ्लैटो का आवंटन कर 74 फ्लैटो का कब्जा दिया जा चुका है।

बनास अपार्टमेन्ट, सैक्टर-26 में स्ववित्त पेाषित योजना के तहत (S+10) उच्च आय वर्ग के 80 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर दिया गया है। इनमें से 78 फ्लैट्स का आवंटन कर 71 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका है।

सरयू अपार्टमेन्ट, सैक्टर-26 में स्ववित्त पेाषित योजना के तहत (S+10) उच्च आय वर्ग के 80 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर दिया गया है। इनमें से 71 फ्लैट्स का आवंटन कर 67 फ्लैट का कब्जा दिया जा चुका है।

गंगा अपार्टमेन्ट, सैक्टर-26 जोन 263 में स्ववित्त पेाषित योजना के तहत (B+S+10) उच्च आय वर्ग के 80 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण किया जा चुका है। जिसमें से 53 फ्लैट्स का आवंटन कर 43 फ्लैट का कब्जा दिया जा चुका है।

सरस्वती अपार्टमेन्टः- सेक्टर-18 में मुख्य कुम्भा मार्ग पर मध्यम आय वर्ग-ब के (S+6) के 240 फ्लैट्स नियोजित है, इनमें से 240 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण हो चुका हैं। इनमें से 211 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका है।

गोमती अपार्टमेन्टः- सेक्टर-18 में मध्यम आय वर्ग-अ के (S+11) के 440 फ्लैटो का नियोजन कर पंजीकरण आमंत्रित कर कुल 396 फ्लैटों का निर्माण किया गया है, जिसमें से 396 फ्लैट पूर्ण कर 263 फ्लैट्स का कब्जा दिया जा चुका हैं।

झेलम अपार्टमेन्टः- सेक्टर-28 में मध्यम आय वर्ग -अ के  160 (G+3) फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग -ब के 192 कुल 352 फ्लैट्स (G+3) का नियोजन किया गया था, जिसमें से मध्यम आय वर्ग-अ के 160 फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग-ब के 192 फ्लैट्स का निर्माण पूर्ण कर मध्यम आय वर्ग-अ के 124 फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग-ब के 175 फ्लैट्स का भौतिक कब्जा आवंटियों को दिया जा चुका है शेष के कब्जे दिये जाने की प्रक्रिया जारी है।

गोदावरी अपार्टमेन्टः- सेक्टर-29 में आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग (G+3) के 416, अल्प आय वर्ग के (G+3) के 368 व मध्यम आय वर्ग -अ के (G+3) 160, कुल 944 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण कर लिया गया है। कमजोर आय वर्ग के 326 फ्लैट्स, अल्प आय वर्ग के 372 फ्लैट्स व मध्यम आय वर्ग-अ के 135 फ्लैट्स का भौतिक कब्जा आवंटियों को सम्भलवाया जा चुका है, शेष फ्लेट्स का भौतिक कब्जा दिये जाने की प्रक्रिया जारी है।

नर्मदा अपार्टमेन्टः- प्रताप नगर आवासीय योजना के सेक्टर-8 में चेतक मार्ग पर स्ववित्‍त पोषित योजना के अन्तर्गत मध्यम आय वर्ग-ब (B+S+11) के 88 फ्लैट्स का निर्माण पूर्ण किया जा चुका है। 87 फ्लैट्स का आवंटन कर 82 फ्लैटों का कब्जा दिया जा चुका हैं। 

साबरमती अपार्टमेन्टः- प्रताप नगर आवासीय योजना के सेक्टर-17 में स्ववित्‍त पोषित योजना के अन्तर्गत मध्यम आय वर्ग-अ (S+9) के 72 फ्लैट्स का निर्माण कार्य पूर्ण किया जा चुका है तथा 53 फ्लैटो का आवंटन कर 50 फ्लैटों कब्जा दिया जा चुका हैं।

द्वारकापुरी आवासीय योजनाः- प्रताप नगर आवासीय योजना के सेक्टर-26 में वर्ष 2005 एवं 2007 में अल्प आय वर्ग के लिये विषिष्ट पंजीकरण योजना द्वारकापुरी (जी+7) के 2976 फ्लैट्स नियोजित किये गये थे। जिसमें से 2976 फ्लैटों का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 1674 फ्लैटों का निर्माण कार्य पूर्ण किया जा चुका है तथा 1980 फ्लैटों का आवंटन कर 851 फ्लैटों का कब्जा दिया जा चुका है। मूल संवेदक द्वारा शेष फ्लैटों का निर्माण कार्य नही करने पर राज्य सरकार से स्वीकृति प्राप्त कर अधूरे छोडे गये फ्लैटस का निर्माण कार्य पूर्ण करवाये जाने बाबत कार्यादेश दिनांक 05.10.2018 को जारी किये जा चुके है, जिसकी कार्य प्रारम्भ करने की तिथि 22.10.18 एवं समाप्ति तिथि 21.04.2020 है।

महला आवासीय योजनाः- जयपुर वृत प्रथम के अधीन आवासन मण्डल द्वारा प्रारम्भ की गई महला आवासीय योजना का क्षेत्रफल लगभग 70.44 हैक्टेयर (279.00 बीघा) है। इस योजना में आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 336 फ्लैट, अल्प आय वर्ग के 1440 फ्लैट एवं मध्यम आय वर्ग-अ के 272 फ्लैट कुल 2048 फ्लैट (G+3) टाईप के फ्लैट्स बनाये जाने है। इसमें से प्रथम चरण में दिनांक 28.02.2014 से 31.03.2014 तक अल्प आय वर्ग के 416 फ्लैट्स (G+3) हेतु योजना प्रारम्भ की गई थी, जिसके लिये 1801 आवेदकों द्वारा आवेदन किया गया था। इस योजना के द्वितीय चरण में दिनांक 23.06.2014 से 22.07.2014 तक आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 112 फ्लेट्स हेतु एवं मध्यम आय वर्ग ‘‘अ’’ के 128 (G+3) टाईप के फ्लैट हेतु योजना प्रारम्भ की गई थी, जिनके लिये क्रमषः आर्थिक दृष्टि से कमजोर आय वर्ग के 2083 आवेदकों ने एवं मध्यम आय वर्ग ‘‘अ’’ के 160 आवेदकों द्वारा आवेदन किया गया था। इस योजना के तृतीय चरण में अल्प आय वर्ग के 928 फ्लेट्स हेतु योजना प्रारम्भ की गई थी।

महला आवासीय योजना में निर्मित फ्लैटों की वस्तुस्थिति का विवरणः-

Category

Planned

Taken up

Completion

Allotted

Possession

EWS

336

112

112

101

10

LIG

1440

1344

1344

1218

70

MIG-A

272

128

128

102

11

Total

2048

1584

1584

1420

91

 

जोधपुर

चैपासनी आवासीय योजना: चौपासनी योजना में कुल विभिन्न श्रेणीयो के 13103 स्वतन्त्र आवासों एवं 692 बहुमंजिले आवासों का निर्माण कर 13096 स्वतन्त्र आवासों एवं 574 बहुमंजिले फ्लेट का भौतिक कब्जा आवंटियों को सुपुर्द कर दिया गया है।

कुड़ी भगतासनी योजना,जोधपुर

                कुड़ी भगतासनी आवासीय योजना में माह दिसम्बर 2019 के अन्त तक 15805 आवासों/फ्लेटों का निर्माण प्रारम्भ कर कुल 15805 आवासों/फ्लेटो का निर्माण पूर्ण किया गया तथा 15423 आवासों/फ्लेटो का आवंटन आवेदकों का कर दिया गया है तथा कुल 13263 आवासों/फ्लेटो का भौतिक कब्जा आवेदकों को सुपुर्द कर दिया गया है।

विवेक विहार योजना,जोधपुर

                विवेक विहार योजना,जोधपुर में माह दिसम्बर 2019 के अन्त तक 1936 फ्लेटों का निर्माण प्रारम्भ कर कुल 1936 फ्लेटो का निर्माण पूर्ण किया गया तथा 1813 फ्लेटो का आवंटन आवेदकों का कर दिया गया है तथा कुल 363 फ्लेटो का भौतिक कब्जा आवेदकों को सुपुर्द कर दिया गया है।

बड़ली आवासीय योजना,जोधपुर: मण्डल की आवासीय योजनाओ के लिए भूमि आवंटन के लिए जिला कलेक्टर जोधपुर को सचिव राजस्थान आवासन मण्डल के द्वारा प्रेषित पत्र क्रमांक 1693 दिनांक 20.04.2006 के द्वारा निवेदन किया गया तथा अन्य विविध पत्रो द्वारा सिवाय चक राजकीय भूमि आवंटन के लिए निवेदन किया गया।इस क्रम में दिनांक 21.07.2008 को प्रमुख शासन सचिव नगरीय विकास विभाग राजस्थान सरकार की अध्यक्षता में तत्कालीन नगर विकास न्यास जोधपुर ग्राम बडली के खसरा संख्या 88 में 1100 बीघा भूमि राजस्थान आवासन मण्डल को आवंटित किये जाने का निर्णय किय गया। उक्त आवंटित भूमि में से 990 बीघा भूमि का कब्जा दिनांक 25.06.2009 को राजस्थान आवासन मण्डल द्वारा प्राप्त कर लिया गया है।वर्तमान में उक्त भूमि का डीमार्केशन करने पर 833.49 बीघा भूमि उपलब्ध है। भूमि की आरक्षित दर का निर्धारण किया जा चूका है।उक्त भूमि के मध्य में से गूजर रही जोधपुर-जैसलमेर से सडक के दोनो ओर व्यावसायिक प्लानिंग की गई है जिनके निस्तारण की प्रक्रिया की जा रही है।

केरू आवासीय योजना जोधपुर: जोधपुर विकास प्राधिकरण,जोधपुर की ग्राम केरू (जोधपुर) के खसरा न. 812 में से  कुल 1500 बीघा भूमि राजस्थान आवासन मण्डल,जोधपुर को आवंटित की गई है जिसके लिये जोधपुर विकास प्राधिकरण को लगभग 150.00 करोड़ रू. का भुगतान किया जाकर भूमि का कब्जा प्राप्त कर लिया गया है। उक्त भूमि पर योजना विकसित करने हेतु प्लानिंग की जा रही है। तत्पश्चात पंजीकरण योजना प्रारम्भ की जानी प्रस्तावित है। 

आबूरोड आवासीय योजना: आबू रोड में आकरा भाटा एवं मानपुर में आवासीय योजनाओ का निर्माण किया गया है। आकराभट्टा आबूरोड में विभिन्न आय वर्गो के कुल 629 मकानो का निर्माण कर 573 आवासों का भोतिक कब्जा सुपुर्द कर दिया गया है। मानपुर आवासीय योजना, आबूरोड़ में 983 आवासों का निर्माण कर 739 आवासों का भौतिक कब्जा सुपुर्द कर दिया गया है।

जैसलमेर आवासीय योजना: जैसलमेर आवासीय योजना में कुल विभिन्न श्रेणीयो के 422 स्वतन्त्र आवासों एवं 84 बहुमंजिले आवासों का निर्माण कर 413 स्वतन्त्र आवासों एवं 13 बहुमंजिले फ्लेट का भौतिक कब्जा आवंटियों को सुपुर्द कर दिया गया है।

फलोदी आवासीय योजना: फलोदी आवासीय योजना मे वर्ष 2004 में 112 बीघा भूमि का आवंटन किया गया इस तरह वर्ष 2009 में 50 बीघा भूमि का आवंटन किया गया हैं इस भूमि पर कुल 1172 मकानो का निर्माण कार्य पूर्ण कर 1128 आवासों के भौतिक कब्जे सुपुर्द कर दिये गये है।

भिवाड़ी (अलवर)

भिवाडी शहर में माह दिसम्बर 2019 तक 6103 आवास/फ्लेट्स का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर पूर्ण कर दिया गया है, जिसमें से 5893 आवास/फ्लेट्स का आवंटन कर 5188 आवास/फ्लेट्स का भौतिक कब्जा दिया जा चुका है।

उदयपुर

उदयपुर शहर में माह दिसम्बर 2019 तक कुल 9869 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 9869 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 9860 आवासो का आवंटन कर 9812 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किया जा चुका है।

भीलवाडा में माह दिसम्बर 2019 तक कुल 7530 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 7530 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 7424 आवासो का आवंटन कर 6788 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किया जा चुका है। 

चित्तोडगढ में माह दिसम्बर 2019 तक कुल 2050 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 2050 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 2050 आवासो का आवंटन कर 2013 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किया जा चुका है।

बांसवाडा शहर में माह दिसम्बर 2019 तक कुल 2861 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 2860 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 2854 आवासो का आवंटन कर 2851 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किया जा चुका है।

डूंगरपुर शहर में माह दिसम्बर 2019 तक कुल 2282 आवासो का निर्माण कार्य प्रारम्भ कर 2282 आवासो का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया एवं 2263 आवासो का आवंटन कर 2263 आवासो का भौतिक कब्जा आवंटियो को सुपूर्द किया जा चुका है।

कोटा

कोटा वृत्त के अधीन चार जिलों कोटा, बूंदी, झालावाड तथा बारां में विभिन्न स्थानों पर मण्डल द्वारा आवासीय कॉलोनियों का निर्माण किया गया है। इन कॉलोनियों में विभिन्न आय वर्ग के कुल 30693 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया जा कर कुल 30546 आवासों का निर्माण पूर्ण किया गया है।

कोटा शहर में मण्डल द्वारा अब तक 23478 आवासों का निर्माण कार्य प्रारम्भ किया जा कर 23454 आवासों का आवंटन किया गया एंव 23404 आवासों का कब्जा माह दिसम्बर 2019 दिया जा चुका है। वर्तमान में कोटा शहर में कुल 203 पंजीकृत आवेदक आवासों के आवंटन हेतु प्रतीक्षारत है।

कोटा वृत्त के अधीन महत्वपूर्ण योजनाओं का विवरण निम्नानुसार है- 

कुन्हाडी आवासीय योजना कोटा - कुन्हाडी योजना में अब तक विभिन्न आय वर्ग के 427 आवासों का निर्माण किया जाकर आवंटन किया जा चुका है। द्वारकापुरी योजना में अल्प आय वर्ग के 120 (G+3) फ्लेट्स का निर्माण किया जाकर 117 आवंटियों को कब्जे दिये जा चुके है। इसके अतिरिक्त ग्रुप हाउसिंग के MIG-B(S+6) 24 फ्लेट्स का निर्माण किया गया है जिनमे से अब तक 11 फ्लेट्स के कब्जे दिये जा चुके है तथा अधिशेष 10 फ्लेट्स का निस्तारण खुली बिक्री योजना के माध्यम से किया जाना प्रस्तावित है।

स्वामी विवेकानन्द योजना कोटा - इस योजना में अब तक विभिन्न आय वर्ग के 2612 आवासों का निर्माण किया जाकर आवंटन किया जा चुका है तथा 2607 आवासों के कब्जे दिये जा चुके है।

झालावाड़ आवासीय योजना - झालावाड़ आवासीय योजना में कुल 530 आवासों का निर्माण कार्य पूर्ण किया जाकर 529 आवासों का आवंटन अब तक किया जा चुका है तथा 500 आवासों के कब्जे दिये जा चुके है।

बीकानेर

बीकानेर के अधीन पवनपुरी, मुक्ताप्रसाद नगर दो आवासीय योजनाएं है जिन्हें वर्ष 18-19 में नगर निगम को हस्तांतरित कर दिया गया है। उपरोक्त योजनाओं में कुल 6465 आवासों का निर्माण प्रारम्भ कर 6445 आवासों का निर्माण पूर्ण कर 6444 आंवटन किया जा चुका है तथा 6189 आवासों का भौतिक कब्जा भी दिया जा चुका है। बीकानेर शहर में शिवबाड़ी योजना हेतु अवार्ड जारी किया जा चुका है। अवार्ड भुगतान में भूमि के बदले भूमि देने हेतु LNC के प्रस्ताव तैयार किये जा रहे है। इसके पश्चात् योजना प्रारम्भ की जा सकती है।