History/City Profile

मांगरोल की स्थापना पूर्व मध्य भारत के गांव जावेदसर से पलायन करके आए गूगली गौत्र के मंगलिया मीणा द्वारा एक छोटा सा गांव बसा कर की गई थीा शिवपुर बडोदा के गौड राजाओं ने मीणाओं को अपदस्था कर मांगरोल को अपने कब्जे में ले लिया बूंदी के हाडा राजाओं ने गौडो से मांगरोल को जीत कर अपने अधीन कर लिया उसके बाद बूंदी राज्य का शासन राव सुर्जन हाडा के अधीन था मुगल बादशाह शाहजहां के फरमान पर बूंदी राज्यं से कोटा राज्य के संस्थापक राव माधोसिंह हाडा को सन 1631 में यह परगना जागीर में मिला ा कोटा स्टेज के राजा महाराव भीम सिंह हाडा प्रथम ने मांगरोल को सन 1707 में कोटा राज्य में शामिल कर लियाा मांगरोल विशेष रूप से कोटा के महाराव एवं सेवा नायक फौजदार जालिम सिंह झाला के मध्यम युद्ध के कारण प्रसिद्ध रहा हेंा जालिम सिंह ने महाराव के साथ जब विद्रोह किया तब अंग्रेज सरकार से सहयोग लेकर मांगरोल नगर में राजा किशोर सिंह से मुकाबला किया जिसमें महाराव की हार तथा झाला की जीत हुई ा यह घटना 1 अक्टुिबर सन 1821 की हैं ा जिसमें महाराव किशोर सिंह के छोटे भाई पृथ्वी सिंह विरगति को प्राप्त हुए ा स्मृति में बमोरीकलां मार्ग पर स्मारक बने हैंा इन स्मारको को सुरली के नाम से जाना जाता हैंा महाराव रामसिंह (द्वितीय) ने बांण गंगा नदी के बाए तट पर सन 1846 में बाग बाबाजी राज का सुद़ढ दुर्ग शैली का निर्माण करवाकर बाग व क्षार बाग बनवाया ा मांगरोल स्वातंत्रता से पूर्व कोटा ा स्‍टेट के अन्तर्गत बारां जिले में आता था ा सन 1949 में बारां जिला समाप्त हो जाने पर कोटा जिले के अन्तर्गत आ गया ा 10 अप्रेल 1991 से बारां जिले के अस्तित्व‍ में आ जाने पर मांगरोल उपखण्ड मुख्यागलय बनाया गयाा यहां पर तहसील, अस्पाताल, मुन्सिफ कोर्ट, सार्वजनिक निर्माण विभाग व सी0ए0डी0 के कार्यालय स्थापित हुए ा मांगरोल नगर टेरीकॉट, खादी उत्पानदन के रूप में कोटा सम्भाग में प्रसिद्ध हैंा बारां सडक व सीसवाली सडक पर कृषि भूमि पर नई आवासीय कॉलोनी का विकास हुआ हैंा
: : visitor counter
Webpage Last Updated on : Tue Jul 12 17:30:46 IST 2016